25.7.05

इस्राइली और यहूदी सङ्गीत

जब नोट छापने की बात होती है तो हिन्दी खुद ब खुद याद आ जाती है।

1 टिप्पणी:

  1. बात आंशिक रूप से सही है, पर कितना ही अच्छा होता यदि यह बात पूर्ण रूप से सही होती -- यानी अच्छी क्रय क्षमता वाले अधिकांश भारतीय वास्तव में इंटरनेट पर हिन्दी का प्रयोग करते, और उन को लुभाने के लिए विक्रय कर्ताओं को वास्तव में हिन्दी में सक्षम इंटरनेट दुकानें बनानी पड़तीं। अभी तो यह हाल है कि किसी अहिन्दी भाषी का इंटरनेट पर हिन्दी प्रयोग नाम-मात्र के लिए ही है और वह भी हमारे ऊपर अहसान ही लगता है। यदि आप को भारत की किसी द्विभाषी साइट पर खरीदारी करनी हो, तो आप साइट के किस भाग पर ज़्यादा भरोसा करेंगे - हिन्दी या अँग्रेज़ी? हिन्दी से नोट छापने की बात तो सही है, पर इंटरनेट पर अभी लागू नहीं होती।

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।