26.7.05

खुल गया भेद

लेकिन उन दिनों इनकी ज़ुबान से हिंदी शायद ही कभी निकलती थी, अंग्रेज़ी मीडिया के पत्रकार थे और नामीगिरामी अंग्रेज़ी स्कूलों में शिक्षा पूरी की थी. वही पत्रकार धड़ल्ले से तो नहीं लेकिन अच्छी तरह समझ में आ जानेवाली हिंदी बोल रहे थे. मैने अपने एक पुराने संपादक से पूछा कि हिंदी अचानक इतनी फ़ैशनेबल कैसे हो गई.
क्यों? किसीने पन्द्रह साल पहले सोचा था कि ऐसा होगा? और यही हिन्दी के जालस्थलों के साथ भी होगा।

2 टिप्‍पणियां:

  1. दिल तो चाहता है कि ऐसा ही हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन खुश कर दिया इस समाचार ने और आपकी आशा ने ।

    अनुनाद

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।