5.10.05

अशोक का शोक

अशोक के शोक के बारे में पढ़िए। वैसे लोग इतनी कविता कैसे लिख मारते हैं। यह एक चीज़ है जिसमें मैंने कभी भी हाथ नहीं आजमाया। निबन्ध, कहानियाँ लिखने की तो प्रतियोगतिएँ होती थी, पर कविता की कभी नहीं। जो होती थीं, कविता घोटने की ही होती थीं। कितनी सारी घोटी थी - जल की रानी से ले के झाँसी की रानी तक। पर इतना तो कभी दिमाग़ में नहीं आया कि खुद की कविता लिखी जाए। इससे पता चलता है कि इंसान का व्यवहार उसके वातावरण द्वारा प्रेरित होता है। जो कविताएँ गढ़ने की क्लास हुआ करती तो हम भी चेंपते रोज दो चार दो चार। चेंपे रहो।

1 टिप्पणी:

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।