25.7.07

सातवाँ खम्भा

शानदार टिप्पणी। अब हम होते हैं नौ दो ग्यारह।

1 टिप्पणी:

  1. अरूण्7:36 pm

    आलोक भाई नो दो गयारह हो या तेरह,हम कोई दिक्कत नही पर ये खम्बा तो छोड कर जाते .ये गलत बात है माल उठा कर नो दो गयारह होना कानून की किस किस धारा के अनुसार अपराध है हम अभी बाढमेर पुलिस से पूछने जा रहे है.लौट कर आने तक खंबा वापस रख देना वरना हम तब पुलिस मे रिपोर्ट दर्ज कराने के लिएये राजेश रोशन जी को बुला लेगे..:)

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।