23.10.07

ज़ेडमैग

हिंदी में कई समाजशास्त्रियों के लेख। इनमें नोम चोम्स्की का एक लेख भी है, जो कि काफ़ी अच्छा है। वैसे भाषाविद् चोम्स्की ने यह खोज भी की थी कि लगभग सभी भाषाओं के मूल स्वर एक से ही हैं। इसके लिए कई भाषाओं के शब्दों को एक इलेक्ट्रानिक गागर में डाल के मिश्रित करने के बाद ध्वनियों का विश्लेषण किया गया था।

1 टिप्पणी:

  1. धन्यवाद इस जानकारी के लिए, देखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।