1.11.07

दावा

Review My Blog at HindiBlogs.org बस यही नहीं समझ आता कि अपनी ही चीज़ के लिए बार बार दावा क्यों ठोंकना पड़ता है। वैसे हिंदी ब्लॉग्स की शक्लोसूरत इतनी बढ़िया है कि नौ दो ग्यारह होने का मन ही नहीं करता। मैं वहाँ कम से कम २० मिनट तो बिता ही चुका हूँ। बस ऊपर तस्वीर में जो लिखा है वह हिंदी में होता तो मज़ा आ जाता।

6 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा हा!! मैंने तो हिन्दीब्लॉग्स.ऑर्ग में ब्लॉग आते ही पोस्ट मिटा डाली थी, खामखा की पोस्ट थी ब्लॉग पर लेकिन दावा करने के लिए आवश्यक थी!! ;)

    उत्तर देंहटाएं
  2. दवा भी अभी पी ली, खाँसी की - डाबर की हनिटस। वैसे मित्र ने बताया है कि कफ़्लेट ज़्यादा अच्छी है।
    यूँ मुझे इस तमगे से आपत्ति नहीं है, पर उसमें कुछ अंश तो हिंदी का होता। :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. आलोक, आपकी बात पहुंच गई है :) बैज का हिन्दीकरण कर लिया जायेगा।

    दावा प्रतिदावा तो कैर चलता ही रहता है संसार में, मेरे ससुर जी बता रहे थे कि किस तरह महज़ ६०० रुपये की माहवार पेंशन के लिये उन्हें हर साल ये दावा करना पड़ता है कि वे जिंदा हैं ;)

    अमित: जब तक कोड पोस्ट न करें मालिकियत नहीं मिलेगी तो दावा सिद्ध होने तक पोस्ट न आपके लिये खामख्वाह होती है न के लिये :) हाँ उसके बाद न वो आपके काम की रहती है न हमारे काम की। वैसे अक्लमंद को इशारा काफी होता है, क्लेम करने भर के लिये खामख्वाह पोस्ट न लिखें, पोस्ट लिखें और इस कोड को पोस्ट की पूँछ बना कर ठेल दें। आलोक ने कम से कम अपनी पोस्ट का "कुछ कहने के लिये" तो इस्तेमाल किया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आलोक, आपकी बात पहुंच गई है

    शुक्रिया, शुक्रिया :) वैसे जिस स्थल के साथ आपका नाम जुड़ा हो उससे हम इसी तरह की बेहतरीन सेवाओं और सुविधाओं की उम्मीद करते हैं!

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।