16.11.07

खोदा जापान मिले होटल और तस्वीरें और नेपाली

कल के लेख के बाद जापान के बारे में थोड़ी और खोज करते करते कुछ और अच्छे स्थल मिले - द वर्ल्ड इन फ़ोटोज़ और प्लानिगो - रोज कि दुनिया से तंग आ गए हों तो जमा पूँजी यूरोप घूमने लगाइए और तस्वीरें खींचिए। यह भी पता चला कि जापान में नेपाली लोग काफ़ी संगठित हैं। अब हम होते हैं नौ दो ग्यारह रोज़ की दुनिया में प्रवेश करने के लिए। रोज या रोज़?

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपने जापानी भाषा चुन ली है, नतीजा पाठकों को भुगतना पड़ रहा है, टिप्पणी करें या ब्लॉग दिस के स्थान पर リンクを作成 दिखाई दे रहा है!!!
    सुधारें!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरिगातो गोज़ाइमसु!
    जैसे ही ब्लॉगर की समस्या सुलझ जाएगी वापस हिंदी कर दूँगा।

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।