14.9.08

रात

रात हो जाती है, आप सो जाते हैं पर आपकी दुनिया जागती ही रहती है। भला हो टाइमज़ोनों का।

1 टिप्पणी:

  1. टाइमज़ोनों के कारण तो ही हो रहा है यह साब, बोले तो जेट लेग

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।