27.9.08

गूगल के विज्ञापन - हिन्दी वाले - थरथराहट

सुधर जाओ, सालों

थरमसो के विशव निरमा विक्रेता,निरयात? ऍड्वर्ड्स वालों को अपनी छन्नी सुधारनी होगी। अंग्रेज़ी हिन्दी की खिचड़ी और अव्याकरणोपयुक्त माल। अंग्रेज़ी में नहीं चलता है पर हिन्दी में पेल रहे हैं। लगता है देखने वाला कोई नहीं है।

जय हिन्द। लूमीलाग्रो थर? थरथराहट।

7 टिप्‍पणियां:

  1. Jagdish Bhatia12:16 pm

    गूगल से इस तरह का रिश्ता !

    लगता है हिंदी विज्ञापनों के लिये गूगल अभी पूरी तरह तैयार नहीं है। :(

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये तो कुछ जांच परख चल रही है लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सालों तक नहीं सुधरेंगे। क्या कर लेंगे आप? :)
    पहले व्याकरणोचित नॉन खिचड़ी हिन्दी तो बढ़ायें नेट पर! कई ब्लॉग तो इन विज्ञापन से मिलती जुलती लिखते हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ पूर्ण रूप से हिंदी में बनी वेबसाईट्स पर तो विज्ञापन लगातार आ रहे हैं।
    जैसे भास्कर, जोश18

    ये माज़रा क्या है?

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरे भैया, जब हिन्दी वाले ही शुद्ध हिन्दी नहीं लिखते तो विदेशियों से क्यों अपेक्षा रखते हो यार? लुमीलाग्रो पता नहीं क्या बेचता है, देखता कौन है उसे?

    उत्तर देंहटाएं
  6. बात तो सही है आपकी हम आपके साथ है

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।