24.11.08

कचरे में टिप्पणियाँ डालने का नया कीर्तिमान

वह भी एक दिन में पचास।

कचरा टिप्पणी

और उन्हें नौ दो ग्यारह करने का भी। चलो इस बहाने मैंने कुछ लिखा। अफ़सोस भी हुआ, कि इतने सालों से बे-छींटाकसी वाले लेखों पर १ की संख्या दिखने लगी, पर उसे फिर से सिफ़र पे लाना पड़ा!

2 टिप्‍पणियां:

  1. यह आपका प्रताप है, प्रभो..
    केवल नाम ही क़ाफ़ी है.. नौ-दो-ग्यारह !

    उत्तर देंहटाएं
  2. साधना सिंह और शर्लिन कौर फिदा; और फिर भी आप नौ-दो-इग्यारह हो रहे हैं? पुरर्विचार करें! :)

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।