24.1.09

हाई फ़ाइव वाले हिंदी में शुरू

वैसे तो इन हाई-फ़ाइव वालों से मैं बहुत परेशान ही हूँ क्योंकि जान न पहचान वाले हिसाब से खाता खोलने के संदेसे आते रहते हैं, लेकिन आज तो गज़ब हो गया, जब हिंदी में संदेसा आया -

तो पता चला कि इन्होंने वाकई सब कुछ हिंदी में कर रखा है। मज़ा आ गया।

5 टिप्‍पणियां:

  1. वाह !! अच्‍छी खबर !!! सब जगह होगी हमारी हिंदी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जान पर बन आई है इससे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पहले बिना पढे डीलिट करने की छूट थी। अब पढ कर डीलिट करना पडेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अजी हिन्दी में हो या उर्दू में - स्पैम तो स्पैम होता है, उसका रंग, धर्म, जाति, भाषा से क्या लेना! ;) हिन्दी में आ रहा है यह सोच माफ़ नहीं कर देंगे, हम तो फिर भी "रिपोर्ट स्पैम" वाला बटन दबाएँगे!!

    बाकी ये नदीम साहब ने अपने को भी परेशान कर रखा है, पता नहीं कौन हैं और क्या तकलीफ़ पाले बैठे हैं - मैं तो इस नाम के किसी मोहतरम को जानता भी नहीं!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. भला हो कि हिन्दी सही लिखी है http://twitter.com/manuscrypts/status/1146098823

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।