29.11.03

ये क्या मज़ाक है?

एक ओर बीबीसी का जालस्थल है, दूसरी ओर सहारा समय का जालस्थल है। अब नवभारत को तो हम इन के बीच का ही मानेंगे। ये दोनों स्थल यूनीकोडित हैं, तो नवभारत वाला क्यों नहीं हो सकता? कमाल है।

1 टिप्पणी:

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।