1.3.06

कैसा

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह नौ दो ग्यारह. बिना लिखे पढने का निमंत्रण. उत्सुक्तावश आओ, फिर खाली हाथ लौट जाओ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह इतना सन्नाटा क्यूँ है भाई???

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।