5.2.08

जीपीआरएस - हिन्दी में मोबाइल जाल - कौन सा फ़ोन?

जीपीआरएस के जरिए अंतर्जाल तक आपमें से कई लोग जुड़ते होंगे, यह बताइए कि हिन्दी के जालस्थलों को मोबाइल से देखने के लिए अच्छा हैंडसेट कौन सा है? जगदीश जी ने बताया कि वे नोकिया ३११०सी का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा शायद नोकिया ६२८० और शायद ६२७० में भी यह सुविधा है, यह बताइए कि आपके क्या अनुभव हैं? पूछ रहा हूँ क्योंकि अभी घर से ब्रोडबैंड नौ दो ग्यारह है, और तरीके खोज रहा हूँ।

7 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे पास तो नोकिया ३२३० है। पर मैं मोबाइल पर नहीं, लैपटॉप पर मोबाइल यूएसबी कॉर्ड से लगा कर इण्टरनेट देखता हूं। अनुभव बहुत अच्छा नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. यदि इंटरनेट कनेक्टिविटी स्टैंडबाय के रूप में चाहिए तो रिलायंस का सीडीएमए फ़ोन सबसे बड़िया है. कोई सा भी लें- पर मॉडम सुविधा अंतर्निर्मित हो.

    मैं बाहर होता हूं या कभी ब्राडबैण्ड लाइन डाउन होता है तो इसे लैपटॉप / कम्प्यूटर पर लगाकर यूएसबी मॉडम की तरह प्रयोग करता हूँ. वैसे तो रिलायंस दावा करता है कि 144 केबीपीएस डाटा कैपेबिलिटी देता है, परंतु औसत 30-35 के आसपास आता है जो कि बुरा नहीं है.

    मेरे पास बेसिक एलजी (3500)फोन है, जिसमें हिन्दी ब्राउजर का समर्थन नहीं है, परतु वह मॉडेम के रूप में बढ़्या काम करता है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मै अभी अपने नोकिया N70 पर हिन्दी प्रयोग नही करता, इसलिए इस बारे मे ज्यादा जानकारी नही। कोई भी नया फोन खरीदने से पहले उसको ट्राई करिए इस साइट (http://www.tryphone.com/home.seam ) पर जाकर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नोकिया ३२३० - यह भी आजमाते हैं। बीएसएनएल का जीपीआरएस?

    रिलायंस वाले में खर्चा क्या आता है?

    जहाँ तक मुझे पता है, एन७० में हिन्दी की सुविधा नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं नियमित रूप से मोबाईल से इंटरनेट चलाता हूं नोकिया एन सीरीज इस मामले मै काफी ठीक है,मैं बी एस एन एल का जी पी आर एस काम मैं लेता हूं नेट बढिया चलता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. नोकिआ का 5700 XpressMusic सीरीज़-६० वर्जन-३ सिम्बियन फोन है और इसमें हिन्दी मस्त दिखती है। ऐसे ही N73 में भी दिखती है सही। :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. एन ७३ में हिन्दी दिखती है? कमाल है। क्या आप कोई तस्वीर छाप सकते हैं? क्या हिन्दी लिख भी सकते हैं?

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।