27.2.08

संतोष तोट्टिङ्गल - ध्वनि - हिन्दी, कन्नड़ और मलयालम में लिखे को पढ़ने वाले तन्त्र के निर्माता

सन्तोष तोट्टिङ्गल ने बनाया है ध्वनि, जो कि लिखे को बोल कर सुनाने की काबिलियत रखता है, और इसने बढ़िया मुक्त तन्त्राश का इनाम जीता है। है न बढ़िया? अब हम होते हैं नौ दो ग्यारह।

5 टिप्‍पणियां:

  1. यह तो बढ़िया खबर है कि अब हिंदी व अन्य भाषाओं के लिए भी ऐसा जुगाड़ आ गया है!!
    बधाई संतोष जी को

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है . संतोष जी तक हमारी बधाई पहुंचाएं. क्या सबके लिए निशुल्क उपलब्ध है ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रियंकर जी बधाई आप उन्हें सीधे दे सकते हैं -
    यहाँ। और हाँ, यह निःशुल्क ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भारतीय भाषाओं के लिये खुशी की बात है। ऐसे ही हजारों लोगों को भारतीय भाषाओं के लिये आगे आने की जरूरत है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. काम की चीज है। जरा स्टेबल हो ले तब ट्राई करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।