5.1.09

पुस्तकम् डॉट नेट

है तो तेलुगु में किताबों की समीक्षा, शायद ये कुछ समय बाद हिंदी में भी कर दें। हाँ इतना पता चल रहा है कि बात क्या हो रही है हैदराबाद के आईx3 टी की छात्रा ने बनाया है इसे।

4 टिप्‍पणियां:

  1. हिंदी में भी हो जाए तो अच्‍छा होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Hello! good to see about pustakam.net here. Well, its a collective effort of a group of people. not one person :)

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।