15.5.04

ढूँढते रह गया

देख रहा हूँ कि बगल की पट्टी नौ दो ग्यारह हो गई है। पर मेरा ही किया धरा कुछ होगा। करता हूँ कुछ जुगाड़।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।