17.3.04

लौ सुनो चियापसल रेडियो

नेपाली व अङ्ग्रेज़ी में बना एक चिट्ठा। समझ तो ज़्यादा नहीं आया, लेकिन स्थल की रचना बहुत ही आकर्षक है। क्यों न हिन्दी का भी ऐसा ही सामूहिक चिट्ठा बनाया जाए?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।