25.6.04

लिनक्स में हिन्दी, हिन्दी में लिनक्स

पता चला है कि ऑपेरा, औरपोऍडिट हिन्दी में मौजूद हैं, धनञ्जय शर्मा जी की बदौलत। मान गए आपका लोहा। आप औरों को प्रेरित कर रहे हैं। बहुत बहुत साधुवाद। पोऍडिट ऑपेरा अर्सा हो गया लिनक्स में काम किये, अब तो धनञ्जय जी की प्रेरणा से उम्मीद है कि जल्दी ही फिर से शुरुआत कर सकूँगा। वैसे मैं सोच रहा था कि यदि मैं अपने जालस्थल के किसी हिस्से में लेखन का अधिकार किसी अन्य प्रयोक्ता को देना चाहूँ तो क्या ऐसा बिना डॉटाबेस के चक्करों में पड़े किया जा सकता है ? उदाहरण के लिए, http://devanaagarii.net/ks में कोई दूसरा प्रयोक्ता पन्ना डाल सके, पर यह प्रयोक्ता स्थल के बाकी हिस्सों में प्रवेश न कर पाए? तो, इज़ इट पॉसिबल? टॅल मी नो।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।