27.5.05

और मैं रो पड़ा

कई दिनों से मन में सवाल था कि हिन्दी में लिखने के पीछे हाथ धो के मैं क्यों पड़ा हूँ। अब नहीं है। क्योंकि हिन्दी को मेरी नहीं, मुझे हिन्दी की ज़रूरत है। अतुल जी को यह अहसास दिलाने के लिए धन्यवाद।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।