18.7.05

नवनीत बक्शी

सिलेक्शन - कविता तो पढ़ ली, पर समझ नहीं आई। असाहित्यिक जो ठहरा। आलोकित करेंगे?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।