8.10.05

काँच ले लो काँच

श्नेय्दर क्रूस्नाष। दुबारा बोलिए, श्नेय्दर क्रूस्नाष। अग़र अभी तक शक ही था, तो अब पक्का हो गया है कि जर्मन संस्कृत से ही निकली है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।