28.10.05

प्रद्युम्न

बनारसी बाबू प्रद्युम्न की कविताएँ - चन्द्र को चन्द्रबिन्दु की तरह काम में लाने के असफल प्रयास का ज्वलन्त उदाहरण। पर क्या करें। उनका कोई डाक पता नहीं मिला वरना ठीक करने को बोल देते।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।