8.2.06

चाँद और गड़हे

खोज रही हैं स्वाति सानी अभी भी, चन्द्रबिन्दुओं और ड़ को। और हाँ, दौड़ कर बताने के पहले, ये लिनक्स बोलनागरी की खिलाड़ी हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।