9.2.06

नोट छापना शुरू

देवनागरी डॉट नेट पर मैंने पिछले साल की शुरुआत में, यानी कि जनवरी में ऍड्सेंस विज्ञापन डालने शुरू किए थे। सौ डॉलर के आँकड़े पर पहुँचने में ग्यारह महीने लगे। मतलब कि लगभग 4500 रुपए। एक तरह से देखा जाए तो जालस्थल पर हुए सालाना खर्चे से ये ज़्यादा है - आतिथ्य व डोमेन का सालाना खर्चा 1190 रुपए है। यानी कि लागत पर लाभ, 278%। लेकिन ये गणित ठीक इसलिए नहीं है क्योंकि इसमें उन घण्टों का हिसाब नहीं है जो मैंने स्थल को सजाने सँवारने में लगाए हैं। न ही खर्च हुई बिजली, फ़ोन के बिल(8400 सालाना न्यूनतम) का। वो सब मिला लें तो अब तक घाटे में ही चल रहे हैं। पर एक अच्छी शुरुआत है। आपके क्या अनुभव हैं ऐडसेंस या ऍडवर्ड्स के साथ?

7 टिप्‍पणियां:

  1. बधाई! पहले ब्लॉग के साथ साथ आप हिन्दी जाल स्थल के पहले कमाऊ पूत भी बन गए!

    मेरे ब्लॉगों पर कमाई अभी भी शून्य है!

    जवाब देंहटाएं
  2. अनाम9:46 pm

    मुबारकां जी मुबारकां!! :)

    जवाब देंहटाएं
  3. आलोक जी,

    गूगल के एडसेन्स में हिन्दी तो है नहीं, फिर आप ने कैसे हिन्दी का साइट इसके लिए रजिस्टर किया।

    पंकज

    जवाब देंहटाएं
  4. पंकज, हिन्दी है तो नहीं, पर ये तो गूगल वाले ही जानें कि उन्होंने इजाज़त कैसे दे दी।
    हाँ, पहली बार जब मैंने अर्ज़ी दी थी तो उन्होंने भाषा की बात कह के मना कर दिया था। फिर कई महीनों बाद चिट्ठी आई कि आप शामिल हो सकते हैं। तो हो सकता है कि नीतियों में कुछ बदलाव आया हो।
    और कुछ पन्ने अङ्ग्रेज़ी में भी हैं, विज्ञापन अधिकतर उन्हीं पन्नों पर हैं। शायद उन्हें देख कर इजाज़त दी हो।

    जवाब देंहटाएं
  5. अनाम11:21 pm

    even i have make some hindi blog and google serves adsense on them
    look-
    http://attaullah-khan.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  6. अनाम11:21 pm

    even i have make some hindi blog and google serves adsense on them
    look-
    http://attaullah-khan.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।