18.1.05

सरकारी नौकरियाँ बाङ्गलादेशियों को

फ़र्ज़ कीजिए कि हिन्दुस्तान के किसी अख़बार में कोई ऐसी ख़बर आए तो कैसा हाहाकार मच जाए। वही अमरीकियों ने किया है तो ताज्जुब की क्या बात है?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।