30.8.05

ग़ज़लें

श्रिङ्गार रस से ओत प्रोत। छुपाने से मेरी जानम कहीं क्या प्यार छुपता है ये ऐसा मुश्क है ख़ुशबू हमेशा देता रहता है। वैसे सङ्कलनकर्ता आईआईटी कानपुर की पढ़ी हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।