15.7.06

ब्लॉग्स्पॉट में ऐसा धाँसूपना

एक टिप्पणी के जरिए पता चला कि लोगो ने ब्लॉग्स्पॉट पर ही कैसे धाँसू स्थल बनाए हैं और वह भी बङ्गाली में। मुबारक हो सोहाग भूइयाँ को।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।