4.12.04

प्रजा भारत

यूनिकोडित, हिन्दी अखबार। लेकिन लगता है कि ख़बरें पढ़ने के लिए पञ्जीकरण करना पड़ता है। और उसके लिए नोट लगते हैं। कोई गल नहीं। फिर कभी सही। पर सामग्री काफ़ी है यहाँ लगता है। सोचा कि पञ्जीकरण के बारे में शिकायत करूँ लेकिन कोई डाक पता नहीं मिला। आपको मिले तो बताएँ। इस बीच थोड़ा शोक, रायपुर टुडे अब मौजूद नहीं है। गूगल बड़ा तेज़ छोकरा है, चन्द घण्टों में सब कुछ घोट लेता है। पता चला तत्काल के बारे में। अब ठाकुर का हाथ माँग लिया तो क्या हुआ - हाँ, अब तो अमेरिका में भी गैर कानूनी है। मुआफ़ी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।