3.6.08

सिर्फ़ पाँच मिनट और चार कदमों में अपने पते को meraanaam@gmail.com के बजाय mera@meraanaam.in करें, और पुराना पता भी जारी रखें

आइए आज देखते हैं कि आप अपने फ़ोकटी जीमेल के पते के बजाय अपने डोमेन वाले पते का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं। और वह भी पुराना पता गँवाए बगैर।

  1. आपको एक डोमेन खरीदना होगा। .इन डोमेन ८०० रुपए सालाना में मिलते हैं।
  2. इसके बाद अपने डोमेन के डीऍनऍस प्रबन्धन में जा के मेल फ़ॉर्वर्ड का विकल्प चुन लें। मैंने ज़ोनएडिट का इस्तेमाल किया है।
  3. इसके बाद इस प्रकार जानकारी प्रदान करें। - * @ meraanaam . in is forwarded to meraanaam @ gmail . com और जोड़ दें।
  4. आपको चेतावनी दी जाएगी, Are you sure you want to do this? This will delete your MX records. यहाँ पर हाँ चुनें और आगे बढ़ें।

हो गया काम। ऊपर * देने का अर्थ है कि इस डोमेन की सारी डाक एक ही पते पर अग्रेषित की जाए। अगर आप कोई खास नाम चाहते हैं तो * के बजाय कुछ और दें जैसे कि अपना नाम। ऐसा करने से केवल meraanaam@meraanaam.in को भेजी डाक आपतक पहुँचेगी पर kuchhbhi@meraanaam.in वाली डाक आप तक नहीं पहुँचेगी। एक से अधिक प्रविष्टियाँ भी डाल सकते हैं।

अब, आप अपनी जीमेल की डाक पेटी में, अपनी जीमेल वाली डाक के साथ साथ, meraanaam . इन वाली डाक भी पा सकेंगे।

यह तो हुई डाक प्राप्त करने की बात। लेकिन उसी पते से डाक भेजेंगे कैसे? चार कदम और –

  1. अपने जीमेल खाते में सेटिंग्स पर जा के “खाते” वाले खाँचे में जाएँ – अंग्रेज़ी में यह ऍकाउण्ट्स के नाम से मिलेगा।
  2. यहाँ पर अपना नया डाक पता भी प्रविष्ट कर दें। आपसे पुष्टि करने को कहा जाएगा, कुछ समय बाद पुष्टि डाक आएगी, पुष्टि कर दें कि यह पता आपका ही है।
  3. पत्रोत्तर/उत्तरापेक्षी – में आप विकल्प चुन सकते हैं कि जिस खाते से डाक आई है, उसी नाम से जवाब भी दिया जाए। इस प्रकार, @gmail वाली डाक का जवाब @gmail से ही, और @meraanaam वाली डाक का जवाब @meraanaam से ही दिया जा सकता है।
  4. नई चिट्ठी लिखने का प्रयास करें। अब आपको प्रेषक वाले कोष्ठक में भी विकल्प मिलेगा, कि किस नाम से डाक भेजनी है। आप खाते के जमाव में यह भी तय कर सकते हैं कि किस पते को वरीयता दी जाए, ताकि आप फ़टाफ़ट अपनी इच्छानुसार, जीमेल या अपने नाम वाली डाक भेज सकें।

बस, हो गया काम। अब हम होते हैं नौ दो ग्यारह। कूटशब्द एक ही याद रखना है, डाक जाँचने के लिए बस एक ही जगह देखना है, लेकिन आएगी दोनो जगहों से!

कुछ और नुस्खे, वैकल्पिक –

  1. आप चाहें तो एक नज़र में पता लगा सकते हैं कि डाक कौन से खाते से आई है। इसके लिए छननी बना लें – यदि प्राप्तकर्ता @ meraanaam . in है तो उसपर चिप्पी लगा दें, और चिप्पी को अलग रंग दे दें।
  2. अगर आप चाहते हैं कि लोग आपकी जीमेल के बजाय @meranaam .in का इस्तेमाल करना शुरू कर दें, तो बस हर डाक का जवाब @meraanaam .in वाले पते से देना शुरू कर दें। धीरे धीरे वही अधिक प्रचलित हो जाएगी, और जीमेल वाली डाक तो आपके पास आएगी ही।
  3. abuse@ meraanaam .in , postmaster@ meraanaam .in पर खास नज़र रखें, इनके लिए जीमेल में अलग छननी बना के रख सकते हैं।
  4. अपने जालस्थलों और चिट्ठों और हस्ताक्षर में नया पता लिखना न भूलें!

है न पाँच मिनट का काम?

4 टिप्‍पणियां:

  1. येल्लो! आपके एक आइडिया से निपटे, तब तक आपने एक और ठेल दिया! :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. ज्ञान जी, आपको तो पाँच नहीं, ढाई ही मिनट लगेंगे। लङ्का तो आप पहुँच ही चुके हैं। आपकी सुविधा के लिए तस्वीरें भी जोड़ दी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोशिश करतें है.
    मदद दीजियेगा ना?

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाल किशन जी, बिल्कुल करेंगे, नेकी और पूछ पूछ? बताइए क्या समस्या है?

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।