23.11.05

मात्राओं की ग़लतियाँ

पहले भी लिखा था, और अब फिर लिख रहा हूँ, कि मात्राओं की ग़लतियाँ यदि हैं तो उसका निदान भी है। दिक्कत लिखने में नहीं है, लिखे के प्रदर्शन में है, और उसे ठीक करना काफ़ी सरल है। मसलन, ये प्रविष्टि आपको ऐसी दिखनी चाहिए: मात्रा यदि नहीं दिख रही हो तो यहाँ जाएँ:
त्रुटि इस बीच चिट्ठों के बारे में एक अच्छा नज़रिया मिला - वागर्थ के इस लेख से, और कुछ (कम से कम मेरे लिए तो) नए काव्यात्मक चिट्ठे मिले - सुरभित रचना, और ख़ुशबू

3 टिप्‍पणियां:

  1. Alok dada, Aap ye naye chitthe khoj kahan se laate hain :) Bhala aapki search engine mere Google se "tej" kaise ;)

    उत्तर देंहटाएं
  2. भूल गया - कैसे मिले थे। अगली बार से याद रखूँगा।*

    * चाचा चौधरी का दिमाग़ कम्प्यूटर से भी तेज़ चलता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाँ याद आया, सुरभित रचना का सन्दर्भ मेरे जालस्थल के चिट्ठों में मिला था। वहीं से बाकी सभी मिले।

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।