8.11.05

प्रेम रावत, गुरुघण्टाल

चमकीले जालस्थल पर न जाइए, ये गुरु जी, गुरु घण्टाल ही हैं। कैलिफ़ोर्निया में आलीशान बङ्ग्ला है, हैलिकॉप्टर है, जेट है, और चेलों के साथ व्यभिचार करने के आरोप भी हैं। खुलासा। कोई इस स्थल का हिन्दी अनुवाद करना चाहे तो बढ़िया हो, ऐसी जानकारियाँ जितनी भाषाओं में हों, उतना अच्छा है। आप देखेंगे कि फ़ायर्फ़ाक्स लिनक्स पर भी यह त्रुटि दर्शाता है, पर थोड़ी अलग तरह से। यहाँ पर अक्षरों के साथ मात्राएँ तो चिपकी हुई हैं, लेकिन शब्द छितरे हुए हैं। विण्डोज़ में इसी पन्ने को देखेंगे तो अक्षर, मात्रा, सब कुछ छितरा हुआ है। खैर दोनो ही प्रदर्शन त्रुटिपूर्ण हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।