23.11.05

खुली निर्देशिका के बारे में कुछ खुलासा

नेट्स्केप की खुली निर्देशिका, जो कि गूगल की निर्देशिका बन जाती है, बल्कि इतना ही नहीं, कोई भी इसका आर डी ऍफ़ डम्प ले के कुछ शर्तों के अन्तर्गत काम में ला सकता है। आप ये भी देखेंगे कि गूगल के खोज परिणामों में स्थलों के वर्णन सीधे इसी निर्देशिका से टीपे होते हैं, यदि ये स्थल निर्देशिका में हों तो। इस निर्देशिका को सम्पादकों की आवश्यकता हमेशा रहती है - जो कि फ़ोकट में काम करते हैं, और जाल पर अच्छे स्थलों को प्रोत्साहन देने में दिलचस्पी रखते हों, केवल अपने स्थल का प्रचार और प्रसार में ही दिलचस्पी रखने वाले लोगों का यहाँ स्वागत नहीं होता है। हिन्दी में इसके तीन विभाग हैं - मुख्य हिन्दी विभाग, शिशुओं व किशोरों के लिए (ये अभी सार्वजनिक नहीं हुआ है), तथा केवल वयस्कों के लिए। अब ये ज़िम्मेदारी का काम है, क्योंकि यहाँ जो स्थल जाते हैं, पूरी दुनिया को उनके बारे में ज़्यादा जल्दी पता चलता है। तो आपका भी स्वागत है इस सफ़र में। किसी भी वर्ग के पृष्ठ में ऊपर स्थित "पता जोड़ें" अथवा "सम्पादक बनें" पर चटका लगाएँ। अपनी निर्देशिका बनाने के बजाय इसमें जोड़ने का लाभ ये है कि इसकी पहुँच बहुत है, आप रहें न रहें आपका काम आपके बाद भी रहेगा, और आपका नाम तो होगा ही।

5 टिप्‍पणियां:

  1. बेनामी7:53 pm

    Since I do not have Devanagari font installed on my machine, pardon me for writing in English.
    There are so many mistakes in your use of "hrisva" and "deergh" matras that I feel like crying.

    Please do not murder the language like this. Besides you are making so many mistakes in placing matras (on the wrong "vyanjan") please please once again...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये प्रविष्टि आपको ऐसी दिखनी चाहिए थी:
    http://devanaagarii.net/chhavi/maatraa.png

    यदि ऐसी नहीं दिख रही हो तो कृपया Why can't I see the Hindi section? को देखें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भईये बेनाम जी, यह गंभीर आरोप लगाने के पहले अपना ब्राउज़र की मरम्मत करा लें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी6:37 pm

    hi..
    I am brazilian and i want to know how can i say "equilibrium" in hindi language ?
    Please.. can u help me ? mail me the answer to : kurt_rj@yahoo.com

    thanks !!

    उत्तर देंहटाएं

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।