14.4.08

आज की कारस्तानियाँ

आज के दिन मैं नौ दो ग्यारह होने से पहले यह सब करते हुए धरा गया -
  • 10:09 पूरी, चने, हलुवा, चाँदनी चौक की बड़ी। #
  • 10:12 क्रेज़ी फ़ोर - नहीं देख रहा। #
  • 10:28 आज की हटमल भी हरी करी #
  • 10:39 दो घाट का पानी पी लिया। तीसरी घाट की ओर। #
यह सेवा पेश की है लाउडट्विटर ने, उनको धन्यवाद।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

सभी टिप्पणियाँ ९-२-११ की टिप्पणी नीति के अधीन होंगी। टिप्पणियों को अन्यत्र पुनः प्रकाशित करने के पहले मूल लेखकों की अनुमति लेनी आवश्यक है।